अर्थशास्त्र के नोबल के लिए इस भारतीय का नाम भी शामिल

By :
0
83
business smart city.internet connection.social concept

 

द वॉल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का उल्लेख इस वर्ष के अर्थशास्त्र में नोबल पुरस्कार के संभावितों की सूची में है।

राजन का नाम क्लेरिवेट एनालिटिक्स द्वारा संभावित विजयताओं की सूची के छह अर्थशास्त्रियों में से एक है।  क्लेनिवेट एनालिटिक्स वह कंपनी जो शैक्षिक और वैज्ञानिक अनुसंधान करती है और अनुसंधान उद्धरणों के आधार पर दर्जनों संभव नोबल पुरस्कार विजेताओं की एक सूची तैयार करती है।

 

राजन का 4 सितंबर 2016 को आरबीआई गवर्नर के रूप में तीन साल का कार्यकाल समाप्त हो गया था, क्लेरिवेट के अनुसार “कॉर्पोरेट वित्त में फैसले के आयामों को उजागर करने के योगदान” के लिए राजन को उम्मीदवार माना जा रहा है । अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार की घोषणा आज की जाएगी।

रघुराम राजन

क्लेरिवेट एनालिटिक्स, अनुसंधान उद्धरणों के आधार पर संभव नोबेल पुरस्कार विजेताओं की सूची में कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के कॉलिन कैमरर और कार्नेगी मेलॉन यूनिवर्सिटी के जॉर्ज लोवेनस्टाइन (व्यवहार अर्थशास्त्र में और न्यूरोइकॉनॉमिक्स में अग्रणी अनुसंधान के लिए) शामिल हैं। स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के रॉबर्ट हॉल (श्रमिक उत्पादकता एवं मंदी और बेरोजगारी के अध्ययन के विश्लेषण के लिए); और हार्वर्ड के माइकल जेन्सेन, एमआईटी के स्टीवर्ट मायर्स और शिकागो विश्वविद्यालय के रघुराम राजन (कॉर्पोरेट वित्त में निर्णय के आयाम को रोशन करने के योगदान के लिए)।

राजन, 40 वर्ष कि आयु में सबसे कम उम्र के पहले गैर-पश्चिमी अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में मुख्य अर्थशास्त्री थे| 2005 में अमेरिका में अर्थशास्त्री और बैंकरों की वार्षिक सभा में वित्तीय संकट की भविष्यवाणी करते हुए तीन साल बाद बड़ी प्रसिद्धि प्राप्त की। उनको वर्ष 2013 में पिछली यूपीए सरकार द्वारा भारतीय रिजर्व बैंक का गवर्नर नियुक्त किया था। वह फिलहाल कैथरीन दुस्क मिलर डिस्टिंग्विश्ड सर्विस प्रोफेसर ऑफ़ फाइनेंस के रूप में बूथ स्कूल ऑफ बिज़नेस, शिकागो विश्वविद्यालय में कार्यरत हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here