दलित-आदिवासी-मुस्लिम-वाम, यूनिवर्सिटी ऑफ हैदराबाद में एकजुट

By :
0
93

हैदराबाद विश्वविद्यालय 2017 के आगामी छात्र संघ चुनावों के लिए “सामाजिक न्याय के लिए गठबंधन” (Alliance For Social Justice) नामक एक आम बैनर के तहत दलित-आदिवासी-मुस्लिम-वाम संगठन एकजुट होने जा रहे हैं| इस ‘महागठबंधन’ में रोहित वेमुला आंदोलन के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुके अम्बेडकर छात्र संघ (एएसए) , मुस्लिम छात्र संघ (एमएसएफ), स्टूडेंट्स इस्लामिक आर्गेनाईजेशन (एसआईओ), स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) , दलित छात्र संघ (डीएसयू), आदिवासी छात्र संघ (टीएसएफ) और तेलंगाना विद्यालय वेदिका (टीवीवी) भी शामिल हैं। नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) और बहुजन छात्र फ्रंट (बीएसएफ) इस गठबंधन का हिस्सा नहीं हैं। “सामाजिक न्याय गठबंधन” भी एक समझौते पर आया है कि वह एबीवीपी के खिलाफ अपने अभियान में अलग-अलग पार्टियों के नाम का उपयोग नहीं करेंगे|
यह माना जाता है कि इस साल संयुक्त गठबंधन एबीवीपी के लिए एक मजबूत चुनौती रहेगी। पिछले वर्ष के चुनावों में एएसए और उसके मुस्लिम संगठनों ने एसएफआई-द्वारा गठबंधन से अलग-अलग चुनाव लड़ा जबकि इस साल दोनों दल रोहित आंदोलन के लिए न्याय जारी रखने के लिए एक साथ संघर्ष कर रहे हैं ताकि कैम्पस में सामाजिक न्याय की लड़ाई को आगे बढ़ाया जा सके। केंद्रीय पैनल में अध्यक्ष पद के लिए प्रतियोगी श्रीराग पी है, जो वर्तमान में क्षेत्रीय अध्ययन में पीएचडी कर रहे हैं| वह पिछले वर्ष रोहित आंदोलन के लिए न्याय में सक्रिय रूप से शामिल हुए, वे उन छात्रों में से एक थे, जिन्हें कुलपति अप्पा राव प्रशासन के विरोध में जेल में रखा गया था। केन्द्रीय पैनल में गठबंधन के अन्य प्रतियोगियों में टीएसएफ से लुनावत नरेश(एम.पी.एच. पब्लिक हेल्थ) उपाध्यक्ष पद के लिए, आरिफ अहमद (पीएचडी इंडियन डायस्पोरा) एसएफआई से महासचिव के पद के लिए, मोहम्मद आशिक़ एनपी (एमए राजनीति विज्ञान) एमएसएफ से संयुक्त सचिव के पद के लिए, डीएसयू से लोलम श्रवण कुमार (एमए राजनीति विज्ञान) खेल सचिव के तौर पर और गंडिति अभिषेक (एमए एन्थ्रोपोलॉजी) सांस्कृतिक पद के लिए प्रतियोगी रहेंगे|
चुनाव लड़ने वालों में दो मुस्लिम छात्र, तीन दलित छात्र और आदिवासी समुदाय से एक छात्र शामिल हैं। पैनल में एबीवीपी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले केवल दलित-बहुजन-आदिवासी-मुस्लिम पृष्ठभूमि वाले छात्रों का होना ही बड़ी ताकत है। चुनाव, जो इस माह कि 21 तारीख़ को आयोजित किया जाएगा | इस बार प्रेसीडेंशियल डिबेट भी आयोजित की जाएगी | परिणाम 22 सितंबर को घोषित किए जाएंगे।

(अँग्रेजी से : ज़ुबैर सिद्दीकी )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here