राज्य प्रायोजित हिंसा और ज़ेनोफ़ोबिया का केंद्र बनता असम

0
पिछले दिनों हमने असम में बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं देखीं। असम निवासी, बंगाली मूल के हाशिए पर पड़े मुसलमानों के साथ क्रूर और राज्य...

महामारी के दौर में मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल

1
हमारी रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में मेंटल हेल्थ (मानसिक स्वास्थ्य) की जब भी बात आती है तो अक्सर अन्य परेशानियों, झिझक और जागरूकता की कमी...

मौलाना मौदूदी के अनुसार इस्लाम राष्ट्रवाद के बारे में क्या कहता है ?

0
25 सितंबर 1903 को औरंगाबाद में जन्मे मौलाना सैयद अबुल आला मौदूदी बीसवीं सदी ईस्वी में इस्लाम के सबसे बड़े अलंबरदारों में से एक...

बटला हाउस ‘फ़र्ज़ी’ एनकाउंटर के 13 साल

बटला हाउस ‘फ़र्ज़ी’ मुठभेड़ को 13 बरस बीत चुके हैं। 19 सितंबर, 2008 को दिल्ली में हुए पांच सीरियल बम धमाकों में 30 लोग...

ये वक़्त ख़ुदा की तरफ़ पलटने का है

0
पिछले कुछ दशकों में इंसान ने जो तरक़्क़ी की है, उतनी तरक़्क़ी पिछली कई सदियों में भी नहीं हुई। भौतिक सुख-सुविधाओं से सुसज्जित जीवन,...

कोविड ने हमें पर्यावरण के प्रति कितना संवेदनशील बनाया?

0
यह साल मानव सभ्यता के इतिहास में काफ़ी दुखद साल रहा, ख़ास तौर पर भारत के संदर्भ में। वैसे पिछला साल यानि 2020 भी...

साख को बरक़रार रखने की चुनौती से जूझता भारतीय लोकतंत्र

0
होरेस अलेक्ज़ेंडर ‘गार्जियन’ के संवाददाता के रुप में 1977 के आम चुनाव को कवर कर रहे थे, उन्होंने न्यूयॉर्क टाइम्स में छपे अपने एक...

अगर आपको मुफ़्त में कुछ मिल रहा है, तो प्रोडक्ट आप हैं!

0
इंटरनेट, 2 जी सोशल नेटवर्किंग, वेबसाइट्स इत्यादि वही शब्द हैं जिन्हें 20वीं सदी के अंत में हमारे सामाजिक परिवेश में जगह मिली। इसी श्रृंखला...

‘विश्व हिजाब दिवस’ : इस्लाम में परदे का विचार और आज़ादी की आधुनिक बहस

0
पूरी दुनिया में आज़ादी की बहसों और तमाम देशों द्वारा इस वैश्विक सिद्धांत को स्वीकार करने के बावजूद आज औपनिवेशक शक्तियों द्वारा मुसलमानों को...

महामारी में भारतीय अर्थव्यवस्था और तीसरी लहर की आमद

0
कोविड-19 ने दुनिया की लगभग सभी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के साथ-साथ भारतीय अर्थव्यवस्था को भी गंभीर चोट पहुंचाई है। व्यवसायों के साथ-साथ आम जनमानस के...