मन के रहस्य-आत्महत्या का विस्तृत मनोविज्ञान

आत्महत्या करने से पहले जो लोग सुसाइड नोट लिखते हैं, उसका भी अपना मनोविज्ञान है। कई बार यह किसी से बदला लेने के लिए होता है तो कई बार यह किसी को माफ़ करने के लिए होता है।

0
273

-डॉ अबरार मुल्तानी

आत्महत्या का अपना एक विस्तृत मनोवैज्ञानिक पहलू है। कई लोग इस पर तर्क कर सकते हैं की आत्महत्या करने वाले ने सही किया या ग़लत लेकिन इससे आत्महत्या करने वाले की आत्मा को कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता। वह जा चुका होता है लेकिन कोई और ऐसा प्रयास न करे, इसका जतन तो हमें करते रहना चाहिए क्योंकि ज़िंदगी से क़ीमती इस दुनिया में कुछ भी नहीं।

आत्महत्या करना कायरता है या यह हिम्मत वालों का काम है? इस पर भी कई कई दिनों तक बहस की जा सकती है। कायरता कहने वाले कहेंगे कि उसे अपनी ज़िंदगी से लड़ना चाहिए था, उसे अपनी समस्याओं का समाधान खोजना चाहिए था, उसे लोगों की मदद लेना चाहिए थी… कुछ भी करके उसे अपना जीवन बाक़ी रखना चाहिए था। जो इसके विरोध में होंगे वे कहेंगे कि कायरता कैसी? कोई व्यक्ति अपनी इकलौती जान दे दे, इसके लिए बहुत हिम्मत की ज़रूरत होती है। यह काम कायरों के बस का नहीं। इस अंतहीन बहस में कौन जीतेगा यह तो हम नहीं जानते। यह तो ठीक ठीक आत्महत्या करने वाले ही बता सकते हैं कि उन्होंने जान बहादुरी के कारण दी थी या फिर वह डरते हुए मरा था।

आत्महत्या करने से पहले जो लोग सुसाइड नोट लिखते हैं, उसका भी अपना मनोविज्ञान है। कई बार यह किसी से बदला लेने के लिए होता है तो कई बार यह किसी को माफ़ करने के लिए होता है। लेकिन सुसाइड नोट अपनों को हमेशा पीड़ा देता है। वे जब भी इसे पढ़ते हैं, याद करते हैं तो उन्हें पीड़ा होती है। मरने वाला उन्हें ज़िंदगी भर रुलाने की वजह देकर जाता है।

सुसाइड करने वाले शायद यह सोचते हैं कि उनकी आत्मा या रूह यह नोट पढ़ते हुए लोगों को देखेगी। अर्थव्यवस्था का एक नियम है कि किसी वस्तु को बाज़ार से हटा लेने पर उसकी क़ीमत बढ़ जाती है। लोग अपने बारे में भी ऐसा सोचते हैं। ख़ुद को लोगों से अलग करने का सबसे बड़ा कदम आत्महत्या करना है। लेकिन, आत्महत्या करने वाला यह भूल जाता है कि बढ़ी हुई कीमत का महत्त्व तब है, जबकि आप फिर से उपलब्ध हों और दुर्भाग्य से आत्महत्या करने वाला अपनी हत्या सदा के लिए कर चुका होता है तो ऐसे में उसका फिर से लोगों के बीच आना नामुमकिन है।

कई लोग जब आत्महत्या करते हैं तो उससे पहले उनके ज़हन में फिल्मों वाला एक सीन आता है जिसमें कि घरवाले और दोस्त उसकी लाश के पास बैठकर रो रहे हैं, बिलख रहे हैं और यह सब उसकी आत्मा देख रही है। लेकिन, दुर्भाग्य से यह सब सिर्फ फिल्मी बातें हैं। आपकी रूह को ऐसा कुछ भी पता नहीं चलता। वह तो चली जाती है किसी और दुनिया में और यदि आप यह विश्वास रखते हैं कि वह दूसरी दुनिया वह है, जो हमारे धर्मों ने बताई है तो याद रखिए कि धर्मों के कानूनों के अनुसार आपकी रूह को वहां भी सुकून नहीं मिलेगा। और यदि आप नास्तिक हैं तो विज्ञान तो रूह और पुनर्जन्म को मानता ही नहीं है। ऐसे में आपके हाथ से सब कुछ चला गया।

आत्महत्या के बारे में सभी विशेषज्ञ इस बात पर एकमत हैं कि आत्महत्या करने वाला व्यक्ति कभी भी अचानक आत्महत्या नहीं करता। वह कुछ निशानियां लोगों के सामने प्रकट ज़रूर करता है। निराश और उदास चेहरा, परेशान और रोती हुई आंखें, गुमसुम अकेला रहने का दिल चाहना, किसी बात में दिल ना लगना, वह काम जिसमें सब खुश होते हैं उसमें भी उसका गुमसुम बैठे रहना, जब सब किसी बात पर ठहाके लगा रहे हो तो उसका बस लोगों का दिल रखने के लिए थोड़ा सा हँस देना… अपनों में और खुद में यह निशानियां देखते रहा करें।

दुनिया में आत्महत्या बहुत से लोग करते हैं लेकिन, सबसे ज़्यादा वे लोग होते हैं, जो भीड़ में ख़ुद को अकेला महसूस करते हैं। उन्हें सब तरफ लोग तो दिखाई देते हैं लेकिन कोई अपना नहीं दिखता या वे अपनों को अपना मानने के लिए तैयार ही नहीं होते। जब दुनिया बेगानी लगती है तो फिर उन्हें मृत्यु अपनी लगने लगती है… जो कि उनका भ्रम होता है।

(लेखक-भोपाल के जाने-माने आयुर्वेदिक डॉक्टर हैं, किताब “मन के रहस्य” के लेखक हैं, इसके अलावा भी स्वास्थ्य और मनोविज्ञान पर दर्जनों किताबें अबतक लिख चुके हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here