जामिया में जारी प्रदर्शन में आज भी हज़ारों की संख्या में जामिया नगर के लोग मौजूद रहें।

कर्नाटक की उमैरा बानो (Women Activist, GIO Karnataka) ने मंगलूर में CAA और NRC के विरोध प्रदर्शन में हुवी पुलिस की बर्बरता का ज़िक्र करते हुवे कहा, कि सरकार पुलिस का इस्तेमाल कर हमें डराना चाहती है। लेकिन जिस तरह जामिया के लोग तमाम तरह की बर्बरता और धमकियों के बावजूद डटे हुवे हैं। ये हम सबको हौसला देता है और देश के सभी लोगों को जामिया से प्रेरणा लेकर अपने आंदोलन को तेज़ करना चाहिए।

0
1432

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों द्वारा शुरू किया गया आंदोलन का आज 12वां दिन था। आज के दिन जामिया के छात्रों ने मंडी हाउस से जंतर मंतर तक एक मार्च का भी आयोजन किया और जामिया की मोहम्मद अली जौहर सड़क पर भी अपना प्रदर्शन जारी रखा.

जामिया में जारी प्रदर्शन में आज भी हज़ारों की संख्या में जामिया नगर के लोग मौजूद रहें। जामिया के छात्रों के प्रतिरोध की इस आवाज़ को समर्थन देने के लिए दिल्ली समेत अन्य राज्यों के छात्र और कार्यकर्त्ता आए. विभिन्न संगठनों के लीडर्स और महिला कार्यकर्ताओं ने इस प्रदर्शन में हिस्सा लिया.

कर्नाटक की उमैरा बानो (Women Activist, GIO Karnataka) ने मंगलूर में CAA और NRC के विरोध प्रदर्शन में हुवी पुलिस की बर्बरता का ज़िक्र करते हुवे कहा, कि सरकार पुलिस का इस्तेमाल कर हमें डराना चाहती है। लेकिन जिस तरह जामिया के लोग तमाम तरह की बर्बरता और धमकियों के बावजूद डटे हुवे हैं। ये हम सबको हौसला देता है और देश के सभी लोगों को जामिया से प्रेरणा लेकर अपने आंदोलन को तेज़ करना चाहिए।

MSF के अध्यक्ष, टी पी अशरफ अली ने प्रदर्शन के दौरान अंग्रेजी में सभी को संबोधित करते हुवे सरकार से सवाल पूछा कि आखिर वें क्यों अरबों रुपए डिटेंशन कैम्प बनाने पर खर्च कर रही है और शिक्षा के क्षेत्र में बजट की कटौती करती जा रही है? उन्होंने जामिया के प्रदर्शन में शामिल सभी स्टूडेंट्स और ओखला के लोगों के जज्बे को सैल्यूट भी किया।

मुस्लिम लीग की यूथ विंग के CK सुबैर ने जामिया के समर्थन में नारे लगाते हुवे कहा “Jamia Millia Islamia has become the pride of India” उन्होंने सरकारों को ललकारते हुवे कहां कि ये बीजेपी सरकार हमें मार सकती है पीट सकती है, लेकिन हमें हरा नहीं सकती।

जामिया हमदर्द की छात्रा और जमिया की पूर्व छात्रा, नीलोफर ने NRC के देश पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों की चर्चा करते हुवे CAA कानून को देश के खिलाफ बीजेपी की साज़िश कहा। इन्होंने जामिया के लोगों को संबोधित करते हुवे कहां कि जब तक वें जमे हुवे है, बीजेपी के देश विरोधी एजेंडे को कामयाब नही होने देंगे।

ऑल इंडिया राइट टू एजुकेशन फोरम के विकास गुप्ता ने जामिया से निकले लेखकों के काम को सराहते हुवे कहा कि देश में जो भी ये समझता है कि वो एक समुदाय विशेष पर हमला करके उनको खत्म कर देगा तो ये उनकी गलत फहमी है। पूरे भारत का समुदाय ये होने नहीं देगा और वो सब साथ मिलकर देश के लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता को बचाने का काम करेंगे।

आज के प्रदर्शन के दौरान सर्वधर्म प्रार्थना का भी आयोजन किया गया. गांधी पीस फाउंडेशन की श्रीमती वंदना ने इस प्रार्थना का गायन किया.

वहीं छात्रों ने आज विरोध स्वरूप पूरे दिन भर जामिया की ओल्ड लाइब्रेरी के गेट के सामने पढाई की. इन छात्रों ने अपने रीडिंग सेशन के ज़रिए सन्देश दिया कि सरकार हो या पुलिस वो हमारी लाइब्रेरी को बर्बाद कर सकती है लेकिन हमें पढने से नहीं रोक सकती.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here