एसआईओ ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया से अपने राष्ट्रव्यापी कैंपस अभियान की शुरुआत की

इस अभियान का उद्देश्य शिक्षण संस्थानों में नैतिक मूल्यों को पुनर्जीवित करते हुए कैंपसेज़ के महत्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करना है।

0
549

कैंपस कॉर्नर

नई दिल्ली

स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इंडिया (एसआईओ) ने “Soul Spark – Illuminate Ethics” नाम से एक कैंपस अभियान के साथ परिवर्तनकारी यात्रा शुरू की है। यह अभियान आधिकारिक तौर पर एसआईओ के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमीस ई के द्वारा शुरू किया गया, जिसका उद्देश्य शिक्षण संस्थानों में नैतिक मूल्यों को पुनर्जीवित करते हुए कैंपसेज़ के महत्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करना है।

इस अभियान की शुरुआत करते हुए, एसआईओ के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि, “शिक्षा किसी भी देश की प्रगति की आधारशिला है, और कैंपसेज़ देश के नैतिक और बौद्धिक विकास को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण स्थान हैं। भारत, जिसे अक्सर ग्रेजुएट्स का देश कहा जाता है, उस आधार पर निर्भर करता है जो कैंपसेज़ हमारे समाज को प्रदान करते हैं। युवाओं ने, अपनी अद्वितीय प्रतिभा और दूरदर्शिता के साथ, ऐतिहासिक रूप से उन क्रांतियों को शुरू किया है जो समाज को नया आकार देती हैं। यह अभियान प्रत्येक छात्र के भीतर नैतिकता की चिंगारी को प्रज्ज्वलित करने और नेतृत्व हेतु उन्हें तैयार करने के लिए है।”

उन्होंने कहा कि, “एसआईओ छात्रों और युवाओं को वास्तविक ज्ञान और जागरूकता प्रदान करने और उन्हें नैतिकता के पथ-प्रदर्शक बनने हेतु तैयार करने के लिए प्रतिबद्ध है। संगठन उनके जीवन में इन मूल्यों को सुदृढ़ करने और शैक्षणिक प्रणाली के भीतर नैतिकता को बढ़ावा देकर सामाजिक बुराइयों से लड़ने के लिए समर्पित है।

हालांकि, भारत भर के कैंपसेज़ में छेड़छाड़, रैगिंग और यहां तक कि हिंसा जैसी असामाजिक गतिविधियों का प्रचलन दुखद रूप से आम हो गया है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों और वार्षिक उत्सवों की आड़ में व्यसन और अश्लीलता के विषैले प्रभाव को बढ़ावा दिया जा रहा है और छात्र समुदाय के एक महत्वपूर्ण गिरोह ने नैतिक रोल मॉडल बनने का अपना दृष्टिकोण खो दिया है।”

संगठन के राष्ट्रीय कैंपस सचिव शेख़ इमरान हुसैन ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि, “एसआईओ जागरूकता और ज्ञान को के माध्यम से, नैतिकता और नैतिक नेतृत्व को परवान चढ़ाने, शिक्षा में मूल्यों को बढ़ावा देने और एक सुरक्षित वातावरण बनाकर, इन मुद्दों को संबोधित कर, अश्लीलता और बुराईयों को ख़त्म करने के अपने लक्ष्य में दृढ़ है। एसआईओ युवाओं की अपार क्षमता को पहचान कर उन्हें निखारने और एक बेहतर समाज को आकार देने के लिए उनके नैतिक और बौद्धिक विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। “Soul Spark – Illuminate Ethics” सिर्फ़ एक अभियान नहीं है;  यह हमारे कैंपसेज़ को नैतिकता और उत्कृष्टता के आधार पर नया आकार देने का एक सामूहिक प्रयास है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here