कविता – “हे शूद्र!”

लो पैर तुम्हारे साफ हो गये अब चप्पलों की जरूरत नहीं तुम्हे तुम उतर सकते हो सीवर मे बे फिक्र तुम मरोगे नहीं, तुम्हे निर्वाण मिलेगा अब सीधा स्वर्ग...

चिनार का दर्द

एक नन्हा सा पौधा जिसे जवान होने में सदियां लगी थीं। जिसने पता नहीं कितनी तूफानी बर्फीली हवाओं से लड़कर अपने वजूद को जिंदा रखा...

दर्पण

टीवी ऑन करने पर बहुत सा शोर टकराता है कानों से । कोई एक खेल खेला जा रहा है । इधर एक एंकर सीटी बजाता है उधर आरोप प्रत्यारोप...

[कविता] तब क़लम उठानी पड़ती है

मानवता जब दम तोड़ रही हो, सांसें साथ छोड़ रही हों, तब क़लम उठानी पड़ती है, क्रांति की मशाल जलानी पड़ती है। देश के सारे मुद्दे...

[दर्पण] युद्ध और शांति

उन्होंने नहीं देखा है अभी बस्तियों को उजड़ते हुए लोगों को कराहते हुए गिद्धों को लाशें नोचते हुए और शहरों को श्मशान बनते हुए उन्होंने नहीं सुना है अभी किसी...

[दर्पण] कितना अच्छा होता

कितना अच्छा होता, निकाल लेते सारा पोटेशियम नाइट्रेट बारूद से, और ज़्यादा बना सकते थे उर्वरक, पिघला देते हथियारों का सारा लोहा, और अधिक बना सकते थे हल, निकाल...

भारत के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद

शारिक़ अंसर, नई दिल्ली आज़ादी हासिल करने में और भारत जैसे बहुसंख्यक, बहुभाषीय व बहुसांस्कृतिक समाज को बांधे रखने और उसे नई दिशा देने में...

तरकीब (लघुकथा)

आज रविवार था, सुबह 8 बजे कोचिंग में वीकली टेस्ट और 30% मार्क्स के साथ सैफ़, बैच का सबसे कम नम्बर प्राप्त करने वाला...

चंद उम्मीद की रोटियां थी थैले में लेकिन भूख लगने से पहले ही मौत...

रोटी से भूख मिटाएंगे हाँ सही सुना आप ने,रोटी से भूख मिटाएंगे सोचा था कि रोटी से भूख मिट जाएगी तो ज़िन्दगी के सफर को आगे बढ़ाएगे स्वार्थ...

धरती का धनी कथाकार : फनीश्वरनाथ रेणु “

हिंदी जगत के कालजयी हस्ताक्षर अमरकथा शिल्पी फनीश्वर नाथ रेणु जिनका जन्म 4 मार्च 1921को बिहार स्थित अररिया जिले के एक छोटे से गांव...