[दर्पण] युद्ध और शांति

वे अनभिज्ञ हैं अभी इस बात से कि दरअसल ‘युद्ध’ किसे कहते हैं? उन्होंने समझ रखा है युद्ध को फ़ेसबुक पर टिप्पणी करने जितना आसान!

0
406

उन्होंने नहीं देखा है अभी
बस्तियों को उजड़ते हुए
लोगों को कराहते हुए
गिद्धों को लाशें नोचते हुए
और शहरों को श्मशान बनते हुए

उन्होंने नहीं सुना है अभी
किसी यतीम का रूदन
किसी विधवा का शोक गीत
किसी मां का ख़ामोश कोलाहल
और युद्ध के बाद छायी मुर्दा शांति का स्वर

वे अनभिज्ञ हैं अभी इस बात से
कि दरअसल ‘युद्ध’ किसे कहते हैं?
उन्होंने समझ रखा है युद्ध को
फ़ेसबुक पर टिप्पणी करने जितना आसान!
बस,
वे अब नहीं चाहते शांति वार्ताएं
उनके नज़दीक ज़रूरी है युद्ध –
भले ही फूंक दिए जाएं दो मुल्क,
मार दिए जाएं दोनों जानिब सीमा पर खड़े सैकड़ों जवान,
उजाड़ दिए जाएं सुहाग,
ढहा दिए जाएं विश्वविद्यालय,
राख कर दिए जाएं संविधान,
छीन‌ ली जाएं बच्चों की मुस्कानें,
और अगर फिर भी न पहुंचे कलेजे को ठंडक
तो बिछा दी जाए पूरी ज़मीन पर बारूद
और सुलगाई जाए आग!

लेकिन क्या उनका गुमान है
कि इसके बाद भी बचे रहेंगे वे
और उनका मोबाइल फ़ोन,
फ़ेसबुक पर स्टेटस अपडेट करने के लिए?
शांति की कामना करने वालों को गालियां देने के लिए?
अगर ऐसा हो
कि बचे रहें वे‌ लोग
और उनके मोबाइल फ़ोन
और उनकी आंखें
तो हां, ‘युद्ध’ ज़रूरी है
एक पूरी पीढ़ी को
शांति का मतलब समझाने के लिए।

– तल्हा मन्नान
(लेखक अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के शिक्षाशास्त्र विभाग में स्नातक के छात्र हैं।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here