पर्यावरण सुधारों के लिए बड़े पैमाने पर भागीदारी की आवश्यकता है

पर्यावरण संकट वर्तमान समय का सबसे बड़ा संकट है। यह उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि मनुष्य का अस्तित्व और पृथ्वी पर जीवन की...

रमज़ान : नेकियों का बसंत

0
रमज़ान का मुबारक महीना आते ही माहौल में ख़ुशी की एक लहर दौड़ जाती है। सच्चाई यह है कि यह महीना अच्छाईयों की बहार...

कैंपस खोलने की माँग को लेकर IIMC में छात्रों का प्रदर्शन जारी

नई दिल्ली | कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच इस समय देश के अलग-अलग हिस्सों में छात्रों की अलग-अलग प्रतिक्रियाएं देखने को मिल रही...

[स्मृति शेष] प्रोफ़ेसर सिद्दीक़ हसन: एक व्यक्ति, एक युग

0
प्रोफ़ेसर के. ए. सिद्दीक़ हसन, जिनका बीते मंगलवार कोज़िकोड में निधन हो गया, उन्हें बहुत-सी चीज़ों के लिए सप्रेम याद किया जाएगा। कुछ लोगों...

साम्प्रदायिकता परोसने का साधन बनती पाठ्यपुस्तकें

जिस दौर में हम आपसी सद्भाव की अनथक कोशिशों के बीच विफल साबित होते दिख रहे हैं और साम्प्रदायिकता की जड़ें मज़बूत होती दिख...

[स्मृति शेष] मौलाना वली रहमानी का जाना हिन्दुस्तानी मुसलमानों के लिए एक अपूर्णीय क्षति

0
विख्यात इस्लामी विद्वान और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना वाली रहमानी का बीते शनिवार की सुबह में निधन हो गया।...

सात साल बाद भी बिहार के एएमयू सेंटर को है अपनी स्वीकृत अनुदान राशि...

2013 में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार द्वारा किशनगंज में बिहार के अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) केंद्र की स्थापना के लिए 136 करोड़...

सीरिया: बीते दस सालों में युद्ध की चपेट में आए 12000 बच्चे

0
अरब स्प्रिंग के बाद सीरिया में तानाशाही के ख़िलाफ़ उठे विद्रोह को दबाने के लिए बशर अल-असद द्वारा अपने ही लोगों के ख़िलाफ़ छेड़े...

[पुस्तक समीक्षा] भगवा राजनीति और मुस्लिम अल्पसंख्यक

पुस्तक का नाम: भगवा सियासत और मुस्लिम अल्पसंख्यक (उर्दू)लेखक: प्रोफ़ेसर मुहम्मद सज्जादप्रकाशक: ब्राउन बुक, अलीगढ़पृष्ठ: 215मूल्य: 300/-समीक्षक: डॉ. इम्तियाज़ अहमद देश में भगवा और फ़ासीवादी...

जामिया के गिरफ्तार छात्रों पर क्यों खामोश हैं हम ! कब तक गिरफ्तार रहेंगे...

0
कोरोना का दौर है और हर इंसान कहीं ना कहीं इस महामारी की मार को महसूस कर रहा है। जहां आए दिन सैकड़ों की...