“बेटी पढ़ाओ” एक चुनौती तो ” बेटी बचाओ ” एक चेतावनी!

नारी सुरक्षा के लोकलुभावन नारे के सहारे सत्ता के शीर्ष तक पहुंचने वाली सरकारें अपने दावों और वादों में पूर्णतः विफल रही है।

0
1665

नारियों का सम्मान एवं उनके हितों की रक्षा करना भारतीय समाज की प्राचीन संस्कृति रही है।”यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः” और “माँ के पैरों तले जन्नत है ” जैसी सूक्तियों के द्वारा उन्हें महिमामंडित किया जाता है।

यहाँ की बेटियाँ खेतों में काम करने से लेकर अंतरिक्ष यात्रा का मुकाम तय कर चुकी हैं। राजनीति, शिक्षा व अनुसंधान के क्षेत्र में अपनी धाक जमाने के साथ ही विश्व सुंदरी का ताज भी पहन चुकी है। देश की रक्षा से लेकर प्रशासनिक व्यवस्था हो या फिर राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों से लेकर ओलम्पिक तक में भारत के लिए सोना, चांदी और कांसे के तमगे बटोर कर लाती हैं।

बावजूद इसके आधी आबादी मानी जाने वाली शक्ति स्वरूपा नारी प्रतिदिन मानवीय क्रूरता, अत्याचार, सामूहिक बलात्कार और शोषण का शिकार हो रही हैं।उनके मज़बूत इरादों, हौसलों और सपनों को बल प्रदान करने की अपेक्षा कुचलने का प्रयास किया जा रहा है।नित प्रतिदिन अखबारों और टीवी चैनल्स पर सामूहिक बलात्कार, छेड़छाड़ की घटनाओं की खबरें देखकर ग्लानि होती है।

जब रक्षक ही भक्षक बन जाएं और सत्तारुढ़ सरकार अपने दायित्वों से मुख मोड़ ले तो फिर सुरक्षा की क्या गारंटी? समाज में चहुँओर बेटियों की असुरक्षा की ब्यार चल पड़ी है, ऐसे में जहाँ “बेटी पढ़ाओ” एक चुनौती तो ” बेटी बचाओ ” एक चेतावनी सा प्रतीत होता है। नारी सुरक्षा के लोकलुभावन नारे के सहारे सत्ता के शीर्ष तक पहुंचने वाली सरकारें अपने दावों और वादों में पूर्णतः विफल रही है। न केवल हरियाणा, बिहार, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर बल्कि पूरे देश की माँएं पूछ रही हैं कि आखिरकार वह कब तक सामंती सोच वाले घुंघट से बाहर निकलने का ख़ामियाज़ा भुगतती रहेंगी?

व्यवस्थागत चुप्पी पर हर माँ का सवाल कि “कैसे पढ़ाऊँ और बचाऊँ अपने बेटियों को? ” झकझोर कर रख देने वाला है। दुर्भाग्यपूर्ण है कि असहाय बालिकाओं की सुरक्षा के नाम पर सरकार व एनजीओ की सहायता से संचालित बालिका गृह भी उनके लिए सुरक्षित नहीं है। बिहार की चर्चित मुजफ्फरपुर बालिका गृह की घिनौने कृत्य के उजागर होने के बाद तो अन्य जगहों से ऐसी शर्मनाक ख़बरें सामने आने लगी हैं। निकट चुनाव में बिहार की जनता को नारी सुरक्षा के मुद्दे पर भी राजनीति दलों से सवाल अवश्य पूछने चाहिए। उन पीड़ित बेटियों को इंसाफ दिलाना और भविष्य में ऐसी घटनाएं न हों इसके लिए हम सब लोगों को सजग रहना होगा।

आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिलाओं के सम्मान में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन होगा। मीडिया और सोशल मीडिया पर उनकी उपलब्धियों के कसीदे गढ़े जाएंगे। निःसंदेह महिलाओं के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है परंतु हम सभी को गंभीरता से सोचना होगा कि क्या हम सब अपने घरों में, समाज में उन्हें वह सम्मान दे पा रहे हैं जिनकी वह हकदार हैं। निश्चय ही जब तक हमारी मानसिकता नहीं बदलेगी तब तक व्यापक बदलाव संभव नहीं है।

लेखक: मंज़र आलम
नालंदा खुला विश्वविद्यालय पटना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here