कुछ मरने के लिए ज़िन्दा छोड़ दिए गए

0
303

कुछ मरने के लिए जिंदा छोड़ दिए गए

ज़्यादा तर मार दिए गए
तशद्दुद के बाद
कुछ भून दिए गए
आतिशी हथयारों के साथ
और फेंक दिए गए इज्तेमाई क़ब्रों में
कुछ की आँखों पर
सियाह पट्टियां बंधी हुई थी
वो मरते हुए ख़ुद को भी न देख सके
कुछ सरहदें पार करते हुए
मुहाफिज़ों के गोलियों का निशाना बन गए
कुछ खुले समंदरों में डूब गए
कुछ कैम्पों में मर्ग आम के नज़र हो गए
उन में बच्चे भी थे
बूढ़े और जवान मर्द भी
लड़कियाँ और औरतें भी
किसी के हांथों में फूल थे
किसी के होंठों पर दुआ
किसी के आँखों में ख़ाब
किसी के सीने में उम्मीद
मौत किसी के दिल में नहीं थी
लेकिन मारे गए
जो बच गए
वो मरने के लिए जिंदा छोड़ दिए गए
पता नहीं उन्हें कब, कहाँ और कैसी मौत आएगी।

✍️ नसीर अहमद “नासिर”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here