कविता-मजदूर

0
180

जो बनाते हैं सबका आशियाना
जो बीनते हैं रंग बिरंगे कपड़े
तैयार करते हैं फसल
आज मजबूर हैं
कोरोना महामारी ने
कर दिया है बेबस, लाचार
कि पैदल ही चल पड़े घरों की ओर
जेब मे कुछ सिक्के
गमछे में कुछ रोटियां
रेल बन्द हैं तो
उसी पटरियों को बना लिया है रास्ता
आज सरकारें हो गयी है
इतनी लाचार
बेबस, और संवेदनहीन
कि इनको घर भी पहुंचा नहीं पा रही
घर पहुंचाती हैं तो उनकी लाशें
जो रेल के चक्कों से कट चुके हैं
और रोटियां पड़ी हुई हैं
पटरियों पर
वे मजदूर जहां गए हैं
वहां इन रोटियों की जरूरत नहीं
सरकारें मुआवजा की घोषणा कर
अपना पल्ला झाड़ लेती है
लेकिन सवाल है कि
रेल की पटरियों पर
ये मजदूर,
क्यों चलने को हुए मजबूर
इनकी मौत का जिम्मेदार कौन?

ज़फर अहमद
मधेपुरा, बिहार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here